समाचार
आप यहाँ हैं

एक्सपोज़र ड्राफ्ट (प्रारूप)

 

1.  बीमा उपभोक्ताओं के पॉलिसीधारकों के हितों के संरक्षण के लिए आधारभूत रूपरेखा आईआरडीए (पॉलिसीधारकों के हितों का संरक्षण) विनियम, 2002 में निहित है।

2.  बीमा क्षेत्र में वर्षों से कई परिवर्तन घटित हुए हैं।  एक ओर जहाँ बीमाकर्ताओं की संख्या में वृद्धि, बीमा मध्यवर्तियों की नई श्रेणियों, प्रस्ताव किये जाने वाले उत्पादों में विविधता, ग्राहकों की शिकायतों हेतु नए माध्यम आदि ने उपभोक्ताओं की सहायता की है, वहीं दूसरी ओर बढ़ती हुई शिकायतें, विशेषतः जीवन बीमा क्षेत्र में पॉलिसियों के अपविक्रय (मिस-सेल) के आरोप से युक्त शिकायतें तथा गैर-जीवन बीमा क्षेत्र में दावों के निपटान में विलंब चिंता के कारण हैं।  वित्तीय क्षेत्र वैधानिक सुधार आयोग (एफएसएलआरसी) की गैर-विधायी सिफारिशों में वित्तीय लेनदेन के सभी स्तरों पर वित्तीय उपभोक्ता संरक्षण को बढ़ावा देने और उपभोक्ताओं के प्रति उचित व्यवहार सुनिश्चित करने के लिए उपाय विद्यमान हैं।  उपभोक्ता संरक्षणसे संबंधित प्रावधान दिशानिर्देशों अथवा अनुदेशों में निहित हैं जिन्हें पॉलिसीधारकों के संरक्षण के लिए विनियमों में लाने की आवश्यकता है।  इस पृष्ठभूमि में पॉलिसीधारकों के संरक्षण के लिए उपायों को सुदृढ़ बनाने के लिए आईआरडीए (पॉलिसीधारकों के हितों का संरक्षण) विनियम, 2002 का पुनरीक्षण करना अनिवार्य है।      

3.  श्री डी. डी. सिंह, सदस्य (वितरण) की अध्यक्षता में आईआरडीए द्वारा गठित उपभोक्ता कार्यों से संबंधित विषयों के लिए स्थायी सलाहकार समिति को बीमा उद्योग में उपभोक्ता संरक्षण के ढाँचे की पुनः जाँच करने और पीपीएचआई विनियमों में परिवर्तन सुझाने का कार्य सौंपा गया।  उक्त समिति द्वारा किये गये विचार-विमर्श के आधार पर आईआरडीएने अब आईआरडीए (पॉलिसीधारकों के हितों का संरक्षण) विनियम, 2014 का प्रारूप जारी किया है।

4.  एफएसएलआरसी द्वारा सिफारिश किये गये रूप में शिकायत निवारण ढाँचे संबंधी दिशानिर्देश, शिकायतों पर कार्रवाई की प्रक्रिया, संरक्षण से युक्त उपभोक्ता के अधिकारों का प्रवर्तन तथा पॉलिसीधारकों के संरक्षण के लिए कंपनी अभिशासन (कारपोरेट गवर्नेंस) के दिशानिर्देश   विनियमों में शामिल किये गये हैं।  आदर्श नागरिक अधिकार-पत्र(सिटिजन्स चार्टर) के साथ अनुबंध के रूप में सेवाओं की सूची  को  सम्मिलित किया है जिसके आधार पर  प्रत्येक कंपनी अपने ग्राहकों हेतु सिटिजन्स चार्टर  बना सके।

5.  आईआरडीए (पॉलिसीधारकों के हितों का संरक्षण) विनियम, 2014 का प्रारूप अनुबंधों के साथ सभी हितधारकों से सार्वजनिक टिप्पणियों के लिए आज आईआरडीए की वेबसाइट (www.irda.gov.in) और आईआरडीए की उपभोक्ता शिक्षा वेबसाइट (www.policyholder.gov.in) पर दिया गया है।

6.  विनियमों के प्रारूप पर यदि कोई टिप्पणियाँ होंतो संलग्न फार्मेट में pphi2014comments [at] irda [dot] gov [dot] in (pphi2014comments@irda.gov.in) को -मेल की जा सकती हैं अथवा डाक से संयुक्त निदेशक, उपभोक्ता मामले विभाग, बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण, तीसरी मंजिल, परिश्रम भवन, बशीर बाग, हैदराबाद-500004 को 19 जनवरी 2015 को अथवा उससे पहले भेजी जा सकती हैं।

 

आईआरडीए (पॉलिसीधारकों केहितों का संरक्षण) विनियम, 2014 का प्रारूप

 

सुझावों के लिए फार्मेट

 

उपभोक्ता मामले विभाग

आईआरडीए



वैधानिक विवेचन के लिए अंग्रेजी पाठ ही मान्य होगा संचालन : रेवालसिस
Close