बीमा जागरूकता सर्वेक्षण
आप यहाँ हैं

बीमा जागरूकता सर्वेक्षण

बीमा विनियामक  और विकास प्राधिकरण (आईआरडीए) ने देश में बीमा जागरूकता के स्तरों का मूल्यांकन करने के लिए नेशनल काउंसिल ऑफ एप्लाइड इकोनॉमिक रिसर्च (एनसीएईआर) से एक देशव्यापी सर्वेक्षण कराया। यह सर्वेक्षण, 29 राज्यों/संघशासित क्षेत्रों में आयोजित किया गया।

ग्रामीण एवं नगरीय क्षेत्रों में बीमित तथा गैर-बीमित लोगों के सामाजिक-आर्थिक प्रोफाइलों से संबंधित सूचनाएँ एकत्र करते हुए तथा जीवन एवं सामान्य बीमा के विविध प्राचलों से इसका सह-संबंध स्थापित करते हुए सर्वेक्षण में विविध निष्कर्ष प्राप्त किए गए। सर्वेक्षण से पता चला कि अधिकांश बीमित व्यक्ति वेतनभोगी, नियमित पारिश्रमित प्राप्त करने वाले या स्व-रोजगाररत हैं। बीमित परिवारों में शिक्षा का स्तर उच्च है जबकि इसके विपरीत अधिकांश गैर-बीमित परिवार प्रायः निरक्षर हैं।

  • भौगोलिक विश्लेषणः रिपोर्ट में प्राचलों का भौगोलिक विश्लेषण किया गया और विविध राज्यों में पैटर्नों का अध्ययन काफी रोचक रहा (इसके लिए सर्वेक्षण से अधिक जानकारी की आवश्यकता है या हम इसे इस अवस्था में छोड़ सकते हैं)
  • बीमा का उद्‌देश्यः गैर-बीमित परिवारों की तुलना में बीमित  परिवार के ज़्यादा लोग इस बात की जानकारी रखते हैं कि बीमा का उद्देश्य अपूर्वानुमानित घटनाओं से होने वाली हानि की क्षति पूर्ति के लिए होता है।
  • सूचना का स्रोतः बीमित और गैर-बीमित दोनों प्रकार के परिवारों के लिए किसी भी सूचना का प्रमुख स्रोत टेलीविजन है। लेकिन बीमा के मामले में बीमा एजेंट ही सूचनाओं के प्रमुख स्रोत हैं।
  • बीमित परिवारों में से 97% यह महसूस करते हैं कि बीमा, उनके लिए प्रासंगिक है। गैर-बीमित लोगों में भी 57% लोगों ने यह माना कि बीमा उनके लिए प्रासंगिक है।
  • बीमा की प्रासंगिकताः दुर्घटनाओं, तथा असमय मृत्यु का भय उन्हें बीमा के विषय में सोचने को विवश करता है। जो लोग यह नहीं मानते कि बीमा उनके लिए प्रासंगिक है, उनका दृष्टिकोण यह है कि वे भविष्य सुरक्षित करने के बारे में सोचने के बजाय वर्तमान का आनंद ले सकते हैं। यह एक सामान्य धारणा है कि बीमा, आपकी गाढ़ी कमाई का पैसा ले लेता है।
  • बीमा के बारे में दृष्टिकोणः आधे से अधिक बीमित परिवारों का विचार था कि बीमा, बचत के साथ-साथ सुरक्षा प्रदान करने का साधन भी है।
  • बीमा लेने का निर्णयः यह निर्णय मुख्यतः एजेंटों, मित्रों और संबंधियों द्वारा प्रभावित होता है। पूर्वधारणाओं को प्रभावित करने वाले कुछ क्षेत्रीय कारक भी हैं, जिनका उल्लेख रिपोर्ट में किया गया है।
  • जीवन तथा गैर-जीवन बीमाः बीमित के परिवेश की पहचान के लिए सर्वे में जीवन बीमा वाले बीमितों पर विचार किया गया। इनमें से, यह पाया गया कि केवल 31% ने मोटर बीमा और 6% ने स्वास्थ्य बीमा कराया हुआ था।

ये फाइलें पढ़ने के लिए आपको एडोब रीडर की आवश्यकता है। एडोब रीडर को मुफ्त में डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
वैधानिक विवेचन के लिए अंग्रेजी पाठ ही मान्य होगा संचालन : रेवालसिस
Close