एफएकयू क्रम
आप यहाँ हैं

यूनिट लिंक्ड बीमा पॉलिसियां

Q.
यूनिट लिंक्ड पॉलिसियों में समर्पण मूल्य की गणना कैसे की जाती है?
A.
यूनिट लिंक्ड पॉलिसियों में सरेंडर मूल्य की गणना प्रायः फंड मूल्य में से समर्पण प्रभार घटाते हुए की जाती है।
 
श्रेणी :
   यूनिट लिंक्ड बीमा पॉलिसियां

Q.
समर्पण, परिपक्वता दावे, पॉलिसी बदलने आदि के लिए नेट असेट वैल्यू (एन.ए.वी.) गणना करने की पद्धति क्या है?
A.
बीमाकर्ता को 3.00 बजे अपरान्ह तक प्राप्त वैध आवेदन (उदाहरणः समर्पण, परिपक्वता दावे, पॉलिसी बदलने आदि के लिए) के संदर्भ में उसी दिन का अंतिम एनएवी लागू होता है।
 
श्रेणी :
   यूनिट लिंक्ड बीमा पॉलिसियां

Q.
यूनिट फंड क्या है?
A.
सभी प्रभारों की कटौती के बाद प्रीमियमों का आबंटित (निवेश) भाग और या पॉलिसीधारकों द्वारा चुने गए किसी विशिष्ट फंड से सभी पॉलिसियों के तहत जोखिम कवर के लिए प्रीमियम को एकत्र करके एक यूनिट फंड बनाया जाता है।
 
 
श्रेणी :
   यूनिट लिंक्ड बीमा पॉलिसियां

Q.
यूनिट क्या है?
A.
यह यूनिट लिंक्ड पॉलिसी में फंड का घटक होता है।
 
श्रेणी :
   यूनिट लिंक्ड बीमा पॉलिसियां

Q.
यूलिप में किस प्रकार के फंड प्रदान करता है?
A.
अधिकांश बीमाकर्ता, लोगों के निवेश लक्ष्यों, जोखिम प्रारुप और निवेश समय सीमाओं के अनुसार फंडों की व्यापक रेंज प्रस्तावित करते हैं। विभिन्न फंडों के जोखिम प्रारुप अलग-अलग होते हैं। प्रतिफलों की क्षमता भी एक से दूसरे फंड में अलग होती हैं।

प्रीमियम आवंटन प्रभार
नीचे कुछ सामान्य उपलब्ध फंडों का ब्यौरा, उनकी जोखिम विशेषताओं के साथ दिया गया है।

सामान्य विवरण

निवेशों की प्रकृति

जोखिम श्रेणी

इक्विटी फंड

पूंजी वृद्धि के सामान्य ध्येय के साथ प्रमुख रूप से कंपनियों के शेयरों में निवेश करते हैं

मध्यम से उच्च

आय, निर्धारित ब्याज तथा बॉन्ड फंड

कंपनियों के बंधपत्रों (बॉन्डों), सरकारी प्रतिभूतियों तथा अन्य नियत आय साधनों में निवेश करते हैं

मध्यम

कैश फंड

कई बार मनी मार्केट फंड कहलाते हैं-नकदी, बैंक जमाओं और मनी मार्केट साधनों में निवेश करते हैं

निम्न

बैलेंस्ड फंड

इक्विटी निवेश के साथ नियत ब्याज साधनों में भी संयुक्त रूप से निवेश करते हैं

मध्यम

 
श्रेणी :
   यूनिट लिंक्ड बीमा पॉलिसियां

Q.
क्या यूलिप में निवेश पर प्रतिफलों की गारंटी होती है?
A.
यूलिप में निवेश पर प्रतिफलों की गारंटी नहीं हो सकती है। ‘‘यूनिट लिंक्ड उत्पादों/पॉलिसियों में, निवेश पोर्टफोलियो में निवेश जोखिम पॉलिसीधारक द्वारा वहन किए जाते हैं।’’ चुने गए यूनिट लिंक्ड के प्रदर्शन के आधार पर पॉलिसीधारक अपने निवेशों पर लाभ या हानि प्राप्त कर सकता है। यह भी नोट किया जाना चाहिए कि किसी फंड के पूर्व प्रतिफल, फंड के भावी प्रदर्शन का अनिवार्य रूप से संकेतक नहीं होते हैं।
 
श्रेणी :
   यूनिट लिंक्ड बीमा पॉलिसियां

Q.
यूलिप में प्रभार, शुल्क और कटौतियाँ क्या हैं?
A.
विभिन्न बीमाकर्ताओं द्वार प्रस्तावित यूलिप पॉलिसियों की प्रभार संरचनाएँ अलग-अलग होती हैं। व्यापक रूप से, विविध प्रकार के शुल्क और प्रभार नीचे दिए गए हैं। हालांकि यह नोट किया जा सकता है कि बीमाकर्ताओं को समय-समय पर ये शुल्क और प्रभार संशोधित करने का अधिकार प्राप्त है।

प्रीमियम आवंटन प्रभार
यह पॉलिसी के तहत यूनिटों के आवंटन से पहले प्रभारों हेतु प्रीमियम का आनुपातिक प्रतिशत भाग होता है। इस प्रभार में सामान्यतः कमीशन के खर्चों के अलावा आरंभिक तथा नवीनीकरण के खर्चे शामिल रहते हैं।

मरणशीलता प्रभार
ये प्रभार, योजना के अंतर्गत बीमा कवरेज लागत निकालने के लिए होते हैं। मरणशीलता प्रभार अनेक कारकों, जैसे कि आयु, कवरेज की राशि, स्वास्थ्य की दशा इत्यादि पर आधारित होते हैं।

फंड प्रबंधन शुल्क
यह शुल्क, फंड(डों) के प्रबंधन के लिए किया जाता है और निवल परिसंपत्ति मूल्य (एनएवी) निकालने से पहले इसकी कटौती कर ली जाती है।

पॉलिसी/प्रशासनिक प्रभार
ये शुल्क योजना के प्रशासन हेतु होते हैं और यूनिटों के निरस्तीकरण द्वारा वसूला जाता है। पूरी पॉलिसी अवधि के दौरान ये एकसमान या पूर्वनिर्धारित दर से परिवर्तनशील हो सकते हैं।

समर्पण प्रभार
समर्पण प्रभार की कटौती, यूनिटों के समयपूर्व आंशिक या पूर्ण नकदीकरण हेतु, जैसा भी लागू हो, पॉलिसी शर्तों में किए गए उल्लेख अनुसार की जा सकती है।

फंड बदलने के प्रभार
सामान्यतः प्रत्येक वर्ष एक सीमित संख्या में फंड बदलने की नि:शुल्क अनुमति होती है, जिसके बाद फंड बदलने पर प्रभार लगता है।

सेवा कर कटौतियाँ
यूनिटें आवंटित करने से पहले लागू सेवा कर की कटौती प्रीमियम के जोखिम भाग से की जाती है।

निवेशक नोट कर सकते हैं कि सभी प्रभार, तथा जोखिम कवर हेतु प्रीमियम की कटौती करने के पश्चात प्रीमियम के शेष भाग का उपयोग यूनिटें खरीदने के लिए किया जाता है।
 
श्रेणी :
   यूनिट लिंक्ड बीमा पॉलिसियां

Q.
प्रस्ताव पर हस्ताक्षर से पहले क्या सत्यापित कर लेना चाहिए?
A.
अनुमोदित विक्रय विवरणिका में निम्न सत्यापित करने चाहिए
  • पॉलिसी के अंतर्गत कटौतीयोग्य सभी प्रभार
  • असमय समर्पण करने पर भुगतान
  • विशेषताएँ और लाभ
  • सीमाएँ और अपवर्जन
  • व्यपगत (लैप्स), तथा इसके परिणाम
  • अन्य प्रकटीकरण
  • 6% और 10% के दो परिदृश्यों में देय लाभ दर्शाने वाले चित्रण, जैसा जीवन बीमा परिषद द्वारा विनिर्दिष्ट किया गया है।
 
श्रेणी :
   यूनिट लिंक्ड बीमा पॉलिसियां

Q.
यूनिटें खरीदने के लिए प्रीमियम के कितने भाग का उपयोग किया जाता है?
A.
अदा किए गए प्रीमियम की पूर्ण धनराशि का उपयोग यूनिटें खरीदने के लिए नहीं किया जाता। विविध प्रभारों, शुल्कों और कटौतियों के लिए राशि निकालने के पश्चात बीमाकर्ता द्वारा शेष प्रीमियम राशि के लिए यूनिटें आवंटित करता है। हालांकि यूनिटें खरीदने के लिए उपयोग किए जाने वाले प्रीमियम का भाग, एक से दूसरे उत्पाद के लिए भिन्न हो सकता है।
आवंटित यूनिटों का कुल मौद्रिक मूल्य, अदा की गई प्रीमियम की राशि से प्रायः कम होता है क्योंकि एकत्रित किए गए प्रीमियम से सबसे पहले प्रभारों की कटौती की जाती है तथा शेष राशि का उपयोग यूनिटें आवंटित करने के लिए किया जाता है।
 
श्रेणी :
   यूनिट लिंक्ड बीमा पॉलिसियां

Q.
यदि पॉलिसी खरीदने के बाद कोई उससे संतुष्ट न होने पर क्या प्रीमियम को वापस मांगा जा सकता है?
A.
पॉलिसी के नियमों व शर्तों से असंतुष्ट होने पर पॉलिसीधारक, पॉलिसी दस्तावेज की पावती के 15 दिनों के अंदर (फ्री लुक अवधि) प्रीमियम की मांग कर सकता है। यूनिटों के निरस्तीकरण द्वारा लगे प्रभारों सहित फंड मूल्य में से चिकित्सकीय जाँच, स्टाम्प शुल्क और कवर की अवधि के लिए आनुपातिक जोखिम प्रीमियम की कटौती करते हुए शेष राशि का भुगतान पॉलिसीधारक को किया जाता है।
 
श्रेणी :
   यूनिट लिंक्ड बीमा पॉलिसियां

Q.
निवल परिसंपत्ति मूल्य (एनएवी) क्या है?
A.
फंड की प्रत्येक यूनिट का किसी दिन का मूल्य, उसका एनएवी होता है। प्रत्येक फंड का एनएवी, संबंधित बीमाकर्ताओं की वेबसाइट पर प्रदर्शित किया जाता है।
 
श्रेणी :
   यूनिट लिंक्ड बीमा पॉलिसियां

Q.
पॉलिसी अवधि के दौरान जोखिम घटित होने की स्थिति में देय लाभ कौन से हैं?
A.
पॉलिसी की शर्तों के अनुसार, पॉलिसी की अवधि के दौरान बीमित व्यक्ति के लिए जोखिम उत्पन्न होने पर बीमांकित धनराशि तथा/या फंड यूनिटों के मूल्य का भुगतान लाभार्थियों को देय होता है।
 
श्रेणी :
   यूनिट लिंक्ड बीमा पॉलिसियां

Q.
पॉलिसी परिपक्वता पर देय लाभ कौन से हैं?
A.
फंड यूनिटों का मूल्य तथा बोनस, यदि कोई हो, पॉलिसी की परिपक्वता पर देय होता है।
 
श्रेणी :
   यूनिट लिंक्ड बीमा पॉलिसियां

Q.
क्या नियमित प्रीमियम के अतिरिक्त योगदान राशि का निवेश करना संभव है?
A.
हाँ, उत्पाद विशेषताओं के अनुसार आप अपनी इच्छा से नियमित प्रीमियमों से अतिरिक्त योगदान राशियाँ निवेशित कर सकते हैं। यह सुविधा, ‘‘टॉप-अप’’ सुविधा कहलाती है।
 
श्रेणी :
   यूनिट लिंक्ड बीमा पॉलिसियां

Q.
क्या यूलिप पॉलिसी लेने के बाद निवेश फंड बदला जा सकता है?
A.
हाँ। उत्पाद की विशेषता के अनुसार एक फंड की एक पॉलिसी से अन्य में निवेश स्थानांतरित करने के लिए ‘‘स्विच’’ का विकल्प दिया जाता है। जहाँ एक निर्धारित संख्या में ऐसे स्विच बिना किसी लागत के अनुमत होते हैं, वहीं इस संख्या के बाद स्विच करने पर एक शुल्क वसूला जाता है।
 
श्रेणी :
   यूनिट लिंक्ड बीमा पॉलिसियां

Q.
क्या आंशिक नकदीकरण या आहरण किया जा सकता है?
A.
हाँ। उत्पादों में ‘‘आंशिक आहरण’’ विकल्प हो सकता है जो पॉलिसी में निवेश के एक भाग का आहरण करने की सुविधा प्रदान करता है। यह यूनिटों के एक भाग को निरस्त करते हुए किया जाता है।
 
 
श्रेणी :
   यूनिट लिंक्ड बीमा पॉलिसियां

Q.
प्रीमियमों का भुगतान रोक देने पर क्या परिणाम होते हैं?
A.
अ) आरंभ होने के बाद तीन वर्ष के अंदर रोकना- यदि शुरुआत से लेकर कम से कम तीन वर्ष तक लगातार सभी प्रीमियमों का भुगतान नहीं किया गया है, तो बीमा कवर तत्काल समाप्त हो जाता है। बीमाकर्ता, अनुमत अवधि के अंदर पुनर्जीवित करने का विकल्प दे सकता है, यदि पॉलिसी को उस अवधि के अंदर पुनर्जीवित नहीं कराया जाता तो पॉलिसी के तीन वर्ष पूरे होने की अवधि, या पुनर्जीवन हेतु अनुमत अवधि का समापन, में से जो भी बाद में हो, पर समर्पण मूल्य का भुगतान कर दिया जाता है।


ब) आरंभ होने के बाद तीन वर्ष के पश्चात रोकना- अनुमत पुनर्जीवन अवधि के समापन पर, समर्पण मूल्य के भुगतान द्वारा संविदा समाप्त कर दी जाती है। बीमाकर्ता, बीमा कवर जारी रखना प्रस्तावित कर सकता है, यदि पॉलिसीधारक द्वारा यह चुना गया हो, उचित प्रभार लगाए जाते हैं जब तक फंड का मूल्य एक वर्ष के पूर्ण प्रीमियम से कम हो। जब फंड का मूल्य एक वर्ष के पूर्ण प्रीमियम के बराबर हो जाता है, तो फंड मूल्य का भुगतान करते हुए संविदा समाप्त की जा सकती है

स) 5 वर्ष की लॉक-इन अवधि वाली पॉलिसियाँ: 01.09.2010 को या इसके बाद खरीदी जाने वाली पॉलिसियों के लिए, लॉक इन अवधि बढ़ाकर 5 वर्ष कर दी गई है। प्रीमियम का भुगतान करना रोक देने पर पॉलिसीधारक के पास (i) पॉलिसी को पुनर्जीवित करने, या (ii) किसी जोखिम कवर के बिना पूर्ण आहरण करने के विकल्प होते हैं।

ग्रेस अवधि समाप्ति तिथि से 15 दिनों के अंदर बीमाकर्ता द्वारा उक्त विकल्प देते हुए एक नोटिस भेजा जाना चाहिए, यदि ऐसे नोटिस के 30 दिनों के अंदर किसी विकल्प पर कार्यवाही नहीं की जाती या विकल्प (ii) चुना जाता है तो स्थगित पॉलिसी के रिफंड की कार्यवाही लॉक-इन अवधि समाप्त होने के पश्चात की जाएगी। यदि लॉक-इन अवधि के अंदर स्थगित किया गया है, तो पॉलिसीधारक को स्थगन तिथि से दो वर्ष की अवधि तक, पॉलिसी पुनर्जीवित कराने का अधिकार है जो कि लॉक इन अवधि की समाप्ति की तिथि के पश्चात नहीं होना चाहिए।
 
श्रेणी :
   यूनिट लिंक्ड बीमा पॉलिसियां

Q.
बीमाकर्ता द्वारा पॉलिसीधारक को निवेशों से संबंधित कौन सी जानकारी उपलब्ध कराई जाती है?
A.
बीमाकर्ता का दायित्व है कि वह एक वार्षिक रिपोर्ट प्रेषित करे, जिसमें विगत वित्तीय वर्ष के दौरान आर्थिक परिदृश्य, बाज़ार विकास इत्यादि के संदर्भ में फंड के प्रदर्शन का विवरण दिया गया हो, जिसमें फंड प्रदर्शन विश्लेषण, फंड का निवेश पोर्टफोलियो, निवेश रणनीतियाँ, तथा अपनाए गए जोखिम नियंत्रण उपायों के विवरण सम्मिलित होने चाहिए।
 
श्रेणी :
   यूनिट लिंक्ड बीमा पॉलिसियां

वैधानिक विवेचन के लिए अंग्रेजी पाठ ही मान्य होगा संचालन : रेवालसिस
Close